आम की खेती करने का नए तरीके व उन्नतशील किस्मे

वानस्पतिक नाम – Mangifera indica L.

कुल – Anacardiaceae

आम की खेती के लिए जरुरी बातें

भारत में ज्यादातर आम की खेती (AAM KI KHETI) आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल, कर्नाटक, केरल, बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, पंजाब और हरियाणा, महाराष्ट्र और गुजरात में की जाती है। भारत दुनिया का एक बड़ा आम उत्पादक देश है।  जिसका वार्षिक उत्पादन 1 लाख हेक्टेयर के क्षेत्रफल से 8.50 मिलियन टन है। आम मूल रूप से एक उष्णकटिबंधीय पौधा है।  यह उष्णकटिबंधीय और उप-उष्णकटिबंधीय परिस्थितियों में अच्छी तरह से बढ़ता है। यह अर्ध-शुष्क स्थितियों में लाभदायक उपज देता है, खासकर सिंचाई के साथ।

जलवायु और तापमान 

आम को उष्णकटिबंधीय और उपोष्णकटिबंधीय दोनों स्थितियों में उगाया जाता है। आम को एक व्यावसायिक और लाभदायक पैमाने पर उगाने के लिए तापमान और वर्षा स्पष्ट रूप से सामान होनी चाहिए। ऊंचाई, तापमान, वर्षा और हवा का आम की फसल के विकास और उत्पादन पर भी प्रभाव पड़ता है। आम नम और शुष्क परिस्थितियों में अच्छी तरह से पनपता है।

Aam Ki Kheti | आम की खेती
आम की खेती

बरसात के दिनों में आम की फसल में फूल आते समय पोधो पर पाउडरी मिल्डू और लीफहॉपर रोगो का प्रकोप शुरू होने लगता है। जलवायु और तापमान, फूलों के निकलने का समय और फलों के पकने के समय को भी प्रभावित करते है। बिहार, बंगाल और पूर्वी उत्तर प्रदेश में मौसम के शुरुआत में उच्च तापमान के कारण आम का फूल आना शुरू हो जाता है।

यहे भी पढ़े – धान के रोग

आम की खेती के लिए मिटटी का चयन

आम की फसल को ज्यादातर हर प्रकार की मिटटी पर ऊगा सकते है। क्षारीय मृदा आम की फसल के लिए ज्यादा लाभकारी नहीं होती है इससे फसल उत्पादन पर भी प्रभाव पड़ता है। हालांकि सुखी मृदा में आम की खेती बहुत अच्छे से होती है। हमारे देश में आमतौर पर आम के बगीचे भारत-गंगा के मैदान की गहरी उपजाऊ जलोढ़ मिट्टी पर स्थित हैं। मिट्टी की गुणवत्ता को बनाये रखने के लिए खेतो में उचित जलनिकास की व्यवस्था होनी चाहिए। मृदा में पोषक तत्वों की कमी नहीं होनी चाहिए। यदि फसल में इन तत्वों की कमी है तो हमे जल्द से जल्द पोषक तत्वों का छिड़काव करना चाहिए।

आम की फसल की उन्नतशील किस्मे

दशहरी, लंगड़ा, चौसा, बॉम्बे, कृष्णा भोग, हिमसागर, गुलाब खास, जर्दालु, अल्फोंसो, केसर, पैरी, मनखुर्द, फेर्नान्दिन, मलिका, आम्रपाली, अर्का पुनीत, अर्का अनमोल, रतना, सिंधु, साई सुगंध।

रोपण विधि

रोपण के समय, पॉलीथीन बैग को हटाने के बाद ग्राफ्ट को सावधानीपूर्वक गड्ढे में रखा जाता है और जड़ों के आसपास मिट्टी को मजबूती से पैक किया जाता है।

सिंचाई विधि

6 महीने के लिए 3-4 दिनों के अंतराल पर नए लगाए गए ग्राफ्ट से सिंचाई की जानी चाहिए, इसके बाद 10-15 दिनों के जलवायु अंतराल के आधार पर 8 – 10 दिन होना चाहिए 1-5 साल पुराने पौधों के लिए पर्याप्त है। असर वाले पेड़ों के लिए, फूलों को 2-3 महीने तक सिंचाई से पहले नहीं दिया जाना चाहिए क्योंकि यह वनस्पति विकास को बढ़ावा देता है और फसल को कम करता है। 

Leave a Reply